RajDangar's Blog

સ્વાગત છે આપનું, ઉઘાડી આંખે જોવાતા સ્વપન ની દુનિયા માં………

વિરહ ની વેદના…. 17/02/2011

Filed under: વિરહ ની વેદના.... — rajdangar @ 8:53 એ એમ (am)

પ્રિયે,

મારા મગજ માં થી તારા વિચારો ને દુર કરવાનો મે પ્રયાસ કર્યો પરંતુ હું તેમા સફળ ન થઇ શક્યો.તારા વિચારો માંજ એક કલાક માં આવેલ ૩૦ ઇ-મેલ વાચ્યાં વગર ના રહી ગયા હતા. વિચાર માત્ર તારી અને મારી વચ્ચે ની દુરી ના હતા.કોઇ કહેછે ને કે માણસ મરે ત્યારે તેની સાથેજ તેની ઝંખના ઓ જાતી હોઇ છે. પણ જીવતા માણસ ની ઝંખનાઓ નું શું ?

જો આજે હું તારા સાંનિધ્યમાં હોત તો મે તને પ્રેમના રંગે અને હૈયાના ઉમંગે રંગી નાખી હોત પણ તું આજે મારાથી દુ….ર છે અને મને તારો પ્રથમ સ્પર્શ, પ્રથમ રોમાંસ અને દિલ વિંધીને કશુંક આરપાર નીકળી ગયાની ઘટના સતાવી રહી છે ! વધુમાં તે આપેલા પરફ્યુમની ખુશ્બુ તારી યાદની તીવ્રતાને બહેકાવી રહી છે ! ખબર જ નથી પડતી કે આ ઝુરાપાને, આ તલસાટને શું નામ આપું. સાચે જ કશુંક ગુમાવીને જીવતો હોઉ તેવું લાગે છે. કોઇક કવિની પંક્તિ અહીં લખવાનું મન થાય છે….

Waqt Guzarta Raha Par Sanse Thami Si Thi,
Muskra Rahe The Hum, Par Ankho Mein Namisi Thi,
Sath Hamare Ye Jahan Tha Sara,
Par Na Jane Kyun Kisi Ki Kami Si Thi….

અચાનક મારા મોબાઇલ માં ફોન આવતા મારે ઓફીસ થી નિકળવાનું થયું.

લી…….રાજ ડાંગર (વડોદરા)
તા – ૧૭/૦૨/૨૦૧૧.

 

પ્રેમનું પ્રશ્નપત્ર……..

Filed under: પ્રેમનું પ્રશ્નપત્ર — rajdangar @ 7:46 એ એમ (am)

દરેક સાજન માટે આ ‘પ્રેમનું પ્રશ્નપત્ર’ કઢાયું છે.  બધા સવાલ સવા લાખના છે. જવાબ જેવા તેવા નહીં ચાલે ! સજની સ્વયમ પ્રેમનું પ્રશ્નપત્ર તપાસી જોશે ! પાસ થવાનું થોડુંક અઘરું છે. દરેક પ્રશ્નની સાથે પરિક્ષકે ઉદહરણ રૂપે (દા. ત. ) એક જવાબ મુક્યો છે. તમારો જવાબ તમે જાણો !!

 

 

 

  • ખુબ જ ઓછા સમયમાં તમારી પ્રિયતમા તમારા હદય , મન, ઘર અને કુટુંબ પર છવાઇ જાય, બધે જ એની વાહ વાહ થઇ જાય તો તમે એને ઘણા ઓછા શબ્દોમાં કઇ રીતે બીરદાવો ? ?
  • દા. ત.  આવતાંની સાથે જ તું એવી છવાઇ ગઇ, જાણે અત્તરની શીશી ખોલતાં ખુશ્બુ ફેલાઇ ગઇ !
  • કોઇની પાછળ તમે દિવાના થઇ ગયા છો એની પ્રતિતિ કરાવવા તમે એ પ્રિય પાત્રને શું કહેશો ? “ મારા સોગંધ” કે “તારા સોગંધ બસ”  ના- ના એવું તો નહીં ચાલે. આનાથી આગળ શું કહેવાય ?
  • દા. ત. દેખતી આંખો છતાંય તમારી પાછળ થઇ ગયો છું અંધ, માનો તો ઠીક છે નહીં તો તમારા રૂપના સોગંધ !!
  • પ્રિયતમાના રૂપના વખાણ કરતાં તમને આવડે છે ? કાચની પુતળી કે ચાંદના ટુકડાથી આગળ તમે શું વિચાર્યું છે ?
  • દા. ત.  તને સહેજ અમથી મેં બહાર બોલાવી, અને ફૂલો હસી પડયાં જાણે કે બહાર આવી !
  • પ્રિય પાત્રના સુંદર દાંતના વખાણ કઇ રીતે કરશો ?  ‘દાડમની કળી જેવા તારા દાંત’થી આગળ ક્યારેય વધ્યા છો ખરા ??
  • દા. ત.  અમે શું ગાઇએ તમારા દાંતના ગાણા, એ જોઇને જ ઇશ્વરે બનાવ્યા છે દાડમના દાણા !
  • અંધોના નગરમાં અરીસા અને ટાલીયાઓના શહેરમાં કાંસકાની શું કિંમત ? અપાર સૌંદર્યનો ખજાનો પણ તેના કદરદાનને ઝંખે છે. પણ સૌંદર્યને નિરખીને પોતાની આંખોને ઠારતા કદરદાનોને દુનિયાના લોકો શું કહે છે ? લખો એ કદરદાનાના શબ્દોમાં !
  • દા. ત.   આ લોકો સૌંદર્ય માટે બે શબ્દો ય કયાં કહે છે, અને અમે કરીએ કદર તો લોકો કહે કે ઝાંખે છે !!
  • જવાનીના નશામાં પ્રેમની બજારમાં ભલે સારા ઠેકાણે પણ સસ્તામાં વેચાઇ ગયાની નઠારી વાત કરી પ્રિયતમાને ચીડવી શકાય ખરી . પણ આવી નઠારી વાતને મઠારીને કરવી શી રીતે ??
  • દા. ત.  હું ભુલમાં જ તમારી કસમ ખાઇ ગયો છું, હું સાવ સસ્તામાં વેચાઇ ગયો છું !!
  • હું તારા ભરોસે છું. તારા પર કરેલા ભરોસે તો મારું જીવન ટકેલું છે ! આ વાતને પ્રિયજનને વધારે અસરકારક રીતે વ્યક્ત કરવી હોય તો શું કહેવાય ?
  • દા. ત. માત્ર તારો જ વિશ્વાસ લઇને જીવું છું,હું ઉછીના શ્વાસ લઇને જીવું છું !
  • પ્રિયપાત્ર જ્યારે પોતાનાથી થોડાક કે ઘણા દિવસો માટે દુર જઇ રહ્યું હોય એ પળ, એ ક્ષણ અતિ કઠીન હોય છે. દિલને દિલાસો આપવા ખાતર શું અરજ કરી શકાય ?
  • દા. ત.  શક્ય હોય તો તારો પડછાયો તું મુકીને જા, તડકો પડે છે ખુબ એક છાંયો તું મુકીને જા.
  • પ્રિયતમા પર હદ ઉપરાંતનો પ્રેમ ઉભરાઇ આવે અને પેલા ફિલ્મી ગીત “કહાં સે કરું મેં પ્યાર શરૂ” જેવી હાલત થાય ત્યારે તમારા મનમાં કેવી ગડમથલ થાય ? ?
  • દા. ત. એવી દ્વીધા મારા મનમાં સતત સાલે સનમ, તને પાનીએ ચુમુ કે ચુમુ ગાલે સનમ !

  • કોઇના દિલમાં થોડીક જગ્યા મેળવવા મથતો પ્રેમી તેની નાદાન- નાસમજ પ્રેમીકાને આ વાત શી રીતે સમજાવે ?
  • દા. ત.  હું રોજ રોજ તમારી જ ખોજમાં રહું છું, તમે જેને તમારૂં દિલ કહો છો તેને હું મારી મંજીલ કહું છું!

લેખક – સુરેશ લાલણ

સંપાદક – રાજ ડાંગર (વડોદરા)

 

વસંત પંચમીના પર્વને ઉજવવા પાછળનું કારણ ……. 08/02/2011

કહેવાય છે કે, બ્રહ્માએ વિષ્ણુની આજ્ઞાથી સૃષ્ટિનું સર્જન કર્યું અને તેમાંય માનવીની રચના કર્યા પછી જ્યારે બ્રહ્માએ પોતાના સર્જનને જોયું ત્યારે તેમને લાગ્યું કે કંઈક ખામી રહી ગઈ છે. જેના લીધે ચારેય તરફ મૌન-મૌન લાગે છે. વિષ્ણુ ભગવાન પાસેથી અનુમતિ મેળવી તેમને ચતુર્ભુજી સ્ત્રીની રચના કરી જેના એક હાથમાં વીણા અને બીજો હાથ વર મુદ્રામાં હતો. બીજા બે હાથમાં પુસ્તક અને એક માળા હતી.

 

બ્રહ્માએ દેવીને વીણા વગાડવાનો અનુરોધ કર્યો. દેવીએ જેવી વીણા વગાડવાનું શરૂ કર્યું, વીણીના મધુર નાદ(અવાજ)થી સંસારના બધા જ જીવ-જંતુઓને વાણી પ્રાપ્ત થઈ ગઈ. જલધારામાં ચેતના આવી ગઈ. પવન ચાલવામાં સરસરાહટ થવા લાગી. ત્યારે બ્રહ્માએ આ દેવીને વાણીની “દેવી સરસ્વતી” એવું નામ આપ્યું.

 

સરસ્વતીને ભગવતી, શારદા, વીણાવાદીની અને વાગ્દેવી સહિત અનેક નામોથી પૂજવામાં આવે છે. આ દેવી વિદ્યા અને બુદ્ધિ પ્રદાન કરનાર છે. સંગીતની ઉત્પત્તિ કરવાને લીધે તેને સંગીતની દેવી પણ કહેવાય છે. વસંત પંચમીના દિવસે તેનો જન્મોત્સવના રૂપમાં મનાવવામાં આવે છે. ઋગ્વેદમાં ભગવતી સરસ્વતીનું વર્ણન કરવામાં આવ્યું છે. તેમની સમૃદ્ધિ અને સ્વરૂપનો વૈભવ અદભૂત છે. પુરાણો પ્રમાણે શ્રીકૃષ્ણએ સરસ્વતીથી ખુશ થઈ વરદાન આપ્યું હતું કે વસંત પંચમીના દિવસે તમારી પણ આરાધના કરવામાં આવશે. વસંત પંચમીનો દિવસ માતા સરસ્વતીનો જન્મદિવસ માનવામાં આવે છે એટલે આ દિવસે તેમની પૂજા કરવામાં આવે છે.

 

‘સમય’ 24/01/2011

Filed under: 'સમય' — rajdangar @ 6:54 એ એમ (am)

‘સમય’ એક એવી ગાડી છે કે જેને ‘બ્રેક’ પણ નથી અને ‘રિવર્સ ગીયર’ પણ નથી.

– Raj Dangar

 

તું મને ખૂબ પ્રિય છે

Filed under: તું મને ખૂબ પ્રિય છે — rajdangar @ 6:49 એ એમ (am)

તું મને ખૂબ પ્રિય છે છતાંય
મારા એકાન્તની ભીતર
હું તને નહીં પ્રવેશવા દઉં.
તું મને ખૂબ પ્રિય છે
મારા એકાન્તથી ય વિશેષ એટલે
…તને બહાર પણ નહીં નીકળવા દઉં.
કદાચ
તું જ મારું એકાન્ત છે
અને તું જ છે મારી એકલતા.

– સુરેશ દલાલ

 

वो घुंघराले बालों वाला लड़का – गोपी गोस्वामी 11/06/2010

Filed under: અવર્ગીકૃત — rajdangar @ 5:46 એ એમ (am)

उस लड़की ने अपनी दोनों आँखे बंद कर ली, अन्तिम बार अपने आराध्य को याद किया और छलांग लगाने के लिए कदम् बढ़ाया तभी उसके कानों में आवाज़ गूंजी.’संभाल के, कहीं गलती से बच मत जाना’ लड़की का हवा में लहराया कदम रूक गया. उसने अपने पैर उस निर्माणाधीन इमारत की छत की मुंडेर से वापिस खींचे और मुड़कर देखा. एक घुंघराले बालों वाला सुंदर सा युवक खड़ा मुस्कुरा रहा था. ‘कौन हो तुम’ लड़की ने पूछा ‘अभी तो कोई नहीं…लेकिन अगर तुम कूद जाती तो घटना का एकमात्र चस्मदीद गवाह होता” लड़के ने बेबाकी से उत्तर दिया. ‘व्हाट…!’ ‘जी हाँ…लेकिन लगता है, आपने अपना इरादा बदल दिया है’ ‘तुम्हें इससे क्या-?’ ‘कुछ नहीं…’ ‘तो ? ‘तो..तो..के चक्कर में मत पडिये…. और वो काम करिए..जिसके लिए आप ने इतनी सीडियाँ चढ़नेका कष्ट किया है…मेरा तो दम फूल गया था…बाप रे..कितनी उँची इमारत है…आपकी हिम्मत की दाद देनी पड़ेंगी-काश की मेरे पास कैमेरा होता’ ‘क्या मतलब?” ‘दरअसल मैं एक पत्रकार हूँ..और तुम्हारी सुसाइड की कवरेज करके….’ ‘शट आप” और दफ़ा हो जाओ’ ‘दफ़ा हो जाओ- मतलब … मुझे उर्दू जुबान का बिल्कुल भी इल्म नहीं है…बराए मेहरबानी..इसका मतलब भी बता दो’ ‘भाड़ में जाओ’ ‘ये कुछ बात समझ में आई…लेकिन उधर तो आप जा रही हैं.. मैं तो सिर्फ ये कहना चाहता था की ऐसे कूदना की सिर जमीन से पहले टकराए…अस्पताल जाने की नौबत ना आए’ लड़की को अब क्रोध आ गया था. वो लड़के के ठीक सामने आ खड़ी हुई…जो शाम के धुंधलके में अपने दोनों बाजुओं को क्रॉस बनाकर बहुत ही सहज मुद्रा में खड़ा हुआ था…उसकी आँखों में अजीब सी कशिश थी…उसके घुंघराले बालों और गौर वर्ण ने लड़की के हृदय में एकबारगी हलचल सी मचा दी.. उसने तुरन्त सयन्त होकर लड़के को घूरा…वो अब भी मुस्कुरा रहा था… ‘तुम यहाँ क्या करने आए हो?’ -लड़की ने पूछा. ‘सिगरेट पीने’, लड़के ने बेझिझक उत्तर दिया. ‘तुम्हारे हाथ में सिगरेट तो नहीं है….’ ‘जेब में है-तुम्हारे पास माचिस है?’ ‘मेरे पास क्यों होगी..और तुम यहाँ सिगरेट पीने इस इमारत की छत पर…आई डोंट बिलीव यू, सच सच बताओ तुम यहाँ क्या करने ….” ‘वही जो तुम करने आई हो…आत्महत्या…’ लड़के ने लड़की की बात खत्म होने से पहले ही कह डाला. ‘क्या….?’ ‘जी…….मैं भी… पर डरता हूँ…’ लड़की जोर से हंसी ….उसकी हंसी थी की रूक ही नहीं रही थी… लड़का शांत खड़ा देख रहा था. तो तुम मरने आए हो..अभी तो कह रहे थे तुम पत्रकार हो..लड़की ने हँसते हँसते ही पूछा. ‘क्यों क्या पत्रकार आत्महत्या नहीं करते…’ लड़की की हंसी को ब्रेक लग गया. उसने लड़के की आँखों में गंभीरता को टटोला…शायद लड़का सचमुच गंभीर था… ‘लेकिन क्यों?-लड़की अपनी जिज्ञासा को नहीं रोक पाई. ‘ये सवाल तो मुझे तुमसे पूछना चाहिए-क्योंकि मरने के लिए तो तुम मरी जा रही हो….’ ‘ ये मेरा निजी मामला है…और तुम कौन होते हो ….’ ‘ठीक है, तो आगे बदो…’ लड़के ने हाथ से आगे बढ़ने का संकेत दिया. – ‘अब की बार पीछे से आवाज़ भी नहीं दूंगा…समझी’ ‘तुम्हारे कहने से मरूंगी?’ ‘ठीक है तो फिर मत मरो’ लड़का हंसा. ‘देखो मिस्टर….अपनी मौत के बारे में फ़ैसला करने का अधिकार सिर्फ मुझे है.. समझे…और…तुम …तुम क्यों नहीं कहीं और जा कर मरते.-’ लड़की वापस मुंडेर की तरफ जाने के लिए मुडी. ‘यहाँ पहले मैं आया था…’ ‘तो फिर कूदते क्यों नहीं हो ?’ ‘डरता हूँ…’ ‘मौत से?’ ‘नहीं …जिंदगी से…अगर गिर कर बच गया …तो फिर मेरी तो जिंदगी ही बेकार हो जाएगी…एक अपाहिज ..की जिंदगी …ये कितना भयानक होगा…मौत से भी बदतर जिंदगी’ लड़के ने आह भरी. लड़की भी इस भयावह सच्चाई की कल्पना मात्र से सिहर उठी. कुछ क्षण मौन रहने के पश्चात लड़की एक बनावटी द्रडता चेहरे पर लाती हुई कठोरता से बोली -’तुम मुझे डराने की कोशिश कर रहे’ ‘तुम डर रही हो?’-लड़के के स्वर में उपहास का पुट था. ‘नहीं…’ लड़की को खुद अहसास हो गया कि उसके नहीं में कहीं से चुपके से डर ने सैन्ध लगा दी थी. ‘ तुम यहाँ से जाओं…भगवान के लिए मुझे अकेला छोड़ दो’ लड़की के स्वर में प्रार्थना थी. ‘भगवान…मतलब यहॉं कोई भगवान नाम का तुम्हारा बॉय फ्रेंड….’ ‘तुम्हारा दिमाग खराब है…’ लड़की चिल्ला कर बोली. ‘सॉरी…भगवान से मतलब तुम्हारा उपरवाले से है…कितनी अजीब बात है उपरवाले से मिलने के लिए तुम नीचे जाना चाहती हो ..वो भी कूद कर’ लड़की खामोश हो गई. ‘क्या सोच रही हो?’ लड़के को शायद लड़की का चुप रहना अच्छा नहीं लगा था. लड़की खामोश ही रही. ‘यदि हिम्मत नहीं हो रही है…तो मैं कुछ मदद करू’ लड़के ने कहा. ‘तुम क्या करोगे’ ‘गिनती गिनूंगा..एक..दो. तीन’ ‘शट अप’ ‘अच्छा..चलो ये बताओ कि तुम मरना क्यों चाहती हो’ लड़की फिर से चुप हो गई. ‘एग्जाम में फेल हो गई हो…?’ लड़की ने आँखें तरेर कर देखा. ‘सौतेली मौ के व्यवहार से तंग हो ?’ लड़की चुप ‘कोई ऐसी वैसी बीमारी….?’ ‘तुम पागल हो’ लड़की ने गुस्से से चीख कर बोला. ‘तो फिर …किसी प्रेम प्रसंग का मामला है-मेरा मतलब प्यार में धोखा?’ लड़के ने फुसफुसाते हुए लड़की के एकदम करीब आकर पूछा. लड़की ने सिर झुका लिया. ‘मुझे पता था…यही बात है…नाइंटी पर्सेंट केसस में ऐसा ही होता है’ लड़के ने जैसे जीत का एलान कर दिया था. लड़की ने अचानक दोनों हाथों से अपना चेहरा ढक लिया और फफक फफ्क कर रोने लगी.लड़का शायद इस तरह् की प्रतिक्रिया की अपेक्षा नहीं कर रहा था. वह लड़की के निकट गया और बोला. ‘देखिए, आप जरा ये हाथों का परदा हटाइए…इस तरह् के आँसू एक बहादुर लड़की की आँखों से बहे …ये कुछ ठीक नहीं है…’ लड़की पूर्ववत रोए जा रही थी. ‘चलिए…थोड़ी देर रो ही लीजिए. मरने से पहले थोड़ा सा गम हल्का हो जाएगा..’ लड़की ने मुँह घुमाकर दुपट्टे से अपनी आँखों को पोछा और वापिस लड़के की तरफ़ घूमी जो निर्विकार भाव से उसकी तरफ घूर रहा था…सफेद रंग की कमीज़ और नीले रंग की जींस में खड़ा हुआ लड़का अपने घुंघराले बाल, गौरवर्ण और लंबे उँचे कद के कारण एक पल में किसी फिल्मी हीरो का सा अहसास देता था. ‘मुझे तुम पर दया आ रही है..वैसे अगर तुम कहो तो में तुम्हारी मदद कर सकता हूँ’ ‘कैसी मदद?’ ‘पहले गिनती गिनने को तैय्यार था अब तुम्हें आत्महत्या के पाप से बचाने के लिए ..धक्का दे सकता हूँ’ ‘तुम्हारी मेहरबानी की जरूरत नहीं है…समझे ..और जाकर अपने दिमाग का इलाज कराओ-तुम आखिर चाहते क्या हो?’ ‘अरे! में तो तुम्हारी मदद करने की कोशिश कर रहा हूँ. और वैसे भी थोड़ी देर बाद अंधेरा हो जाएगा..ऐसे काम जितनी जल्दी निपट जाएँ उतना ही अच्छा है..बहुत सी फॉरमॅलिटीस करनी पड़ती हैं.पुलिस केस बनेगा, पोस्टमार्टम होगा, टीवी चॅनेल्स वाले तुम्हारे माँ-बाप का रोना धोना कैमरे में कैद करेंगे..तुम्हारे अन्तिम संस्कार कि रस्म…..’ ‘बंद करो ये सब….-तुम कैसे निर्दयी इंसान हो..जो मुँह में आता है बक देते हो’-लड़की ने गुस्से में तमतमाते हुए लगभग चीख़ते हुए कहा. ‘लेकिन मैं तो वो हकीकत एडवांस में तुम्हारे सामने रख रहा हूँ..जो सत्य होने वाली है-कल सुबह के लोकल अखबारों की हेडलाइन्स होगी. “नर्मदा अपार्टमेंट की छत से कूद कर एक युवती ने जान दी-दस दिनों के भीतर आत्महत्या की यह दूसरी घटना’”. ‘दूसरी घटना..क्या मतलब’ ‘क्यों अखबार नहीं पढ़ती?’ ‘क्या सचमुच यहाँ से कूद कर किसी ने जान दी थी..कोई लड़की थी?’ ‘नहीं, एक लड़का था ..बेचारा…’लड़के ने एक आह भरी और लड़की की तरफ़ देखा जिसके चेहरे पर घबराहट और बैचेनी साफ नजर आ रही थी. ‘तुम उसकी छोड़ो..और अपना काम करो’ ‘तुम मेरे पीछे क्यों पड़े हो..आखिर तुम मुझे क्यों मारना चाहते हो?’ ‘मैं तुम्हें मारना चाहता हूँ? …अरे! तुम खुद कूद रही थी ..वो तो मैने तुम्हे टोका था बस ..में तो यही चाहता था कि कहीं कसर न रह जाए…’ ‘लेकिन ..अब मैंने अपना इरादा बदल दिया है’-लड़की ने कहा. ‘ये आप गलत कर रहीं हैं मैडम.’ ‘क्यों?’ ‘मेरा मतलब ..अभी मरने से इनकार, कल फिर जीने से इनकार और फिर मरने के लिए दोबारा तैयार …ये कुछ अजीब सा नहीं है.’ लड़के ने नाटकीय अंदाज में कहा. ‘मैं…मैं कुछ समझ नहीं पा रही हूँ…मैं क्या करू…मेरे साथ उसने ऐसा किया…मैं कहीं की नहीं रही…मरना तो चाहती हूँ..पर तुमने जो कुछ कहा उसके बाद… मेरी हिम्मत नहीं हो रही है…’ लड़का जोर जोर से हँसने लगा. ‘तुम..तुम हंस रहे हो?’ ‘तुम्हारे इरादे को नाप रहा था…मुझे लगता है कि तुम्हारे अंदर जीने की इच्छा बहुत बाकी है…लेकिन उस प्रेम चोपड़ा ब्रांड तुम्हारे बॉय फ्रेंड ने तुम्हारे साथ जो किया उसके बाद तुम्हें अपने आप से नफरत हो रही है..बोलो ठीक हैं ना? ‘तुम ठीक कहते हो…मुझे अब उस लड़के से नफरत हो गई है…उसने मेरे साथ खिलवाड़ किया और अब किसी और से शादी कर रहा है…मैने उस पर विश्वास किया..पर…’ लड़की फिर से रोने लगी थी. ‘देखो….मैं तुम्हारी राम कहानी नहीं सुनना चाहता…तुम कौन हो..वो कौन था..तुम्हारे साथ क्या हुआ..ये सब छोड़ो…केवल इतना कहना चाहता हूँ कि यदि समस्याओं का समाधान आत्महत्या होता तो शायद ये दुनिया कभी की खत्म हो गई होती’ ‘शायद तुम ठीक कह रहे हो..पर अब मैं अपने आप को पराजित सा महसूस कर रही हूँ..मेरे भीतर का तूफान ही मुझे यहाँ तक ले आया…मेरे परिवार वाले मेरा इंतजार कर रहे होंगे और मैं यहाँ…’ ‘घबराओ नहीं …अब तुम्हारी भीतर का तूफान शांत हो गया है” लड़के ने किसी दार्शनिक के लहजे में कहाँ शुरू किया- ‘दरअसल, मौत एक कुँआ है.जिंदगी और मौत के बीच में सिर्फ दो कदम का फासला है…पहला कदम् उठा कर वापिस खींचा जा सकता है…लेकिन यदि दूसरा कदम् भी उठ गया तो…जिंदगी खत्म. तुम भी वही करने जा रही थी.. तुम पहला कदम बढ़ा चुकी थी…लेकिन तुम्हार दूसरा कदम मैने रोक दिया-अब तुम्हारे भीतर से जिंदगी फिर से तुम्हें पुकार रही है…उसकी आवाज़ सुनो…जिंदगी तुम्हारी कल्पना से भी कहीं ज्यादा सुंदर है….बोलो है ना सुंदर…?’ ‘तुम ठीक कहते हो..’ लड़की के भीतर कहीं से शांत लहरें उठ उठ कर उसके रोम रोम को भिगो रही थी. ”और, तुम किस पाप की बात कर रही हो…अंतरंग प्रेम के वे क्षण तुम्हारे विश्वास और तुम्हारे समपर्ण की उँचाई थी…और तुम्हारे प्रेमी के लिए केवल वासना का एक खेल….तुम निश्छ्ल थी तभी तो तुम्हारे साथ छ्ल हुआ…एक व्यक्ति के धोखे की सजा तुम अपने पूरे परिवार को दे रही हो…और शायद उन बेचारों को भी जो तुम्हें देख देख कर जी रहे होंगे…अच्छी खासी खूबसूरत जो हो…’ अन्तिम वाक्य सुनकर लड़की के चेहरे पर मुस्कान फेल गई….डूबते हुए सूरज की लाली और मुस्कान से खिला उसका चेहरा सचमुच भला सा लग रहा था. ‘तुमने अपने बारे में कुछ नहीं बताया तुम्हारा नाम क्या है और तुम यहाँ क्या कर रहे हो?’ ‘मेरा नाम तुम अपनी सुविधा के हिसाब से कुछ भी रख सकती हो लेकिन में चाहूँगा की तुम मुझे ऋतिक रोशन बोलो ” लड़की ने जोर से ठहाका लगाया. ‘तुम मजाक बहुत अच्छा कर लेते हो’ ‘वो तो ठीक है… लेकिन चलो अब में तुम्हें नीचे तक छोड़ देता हू’ ‘छोड़ देता हूँ मतलब….तुम नहीं जाओगे?’ ‘मैं इस इमारत का चौकीदार हूँ’ लड़के ने कहा. ‘सौ झूठे मरे होंगे जब तुम पैदा हुए…तुम जो कोई भी हो लेकिन सच कहूँ …मेरे लिए तो देवदूत हो’ लड़की ने दोनो हाथ जोड़ दिए. अब वे इमारत कि सीडियाँ उतर रहे थे. लड़का अब बिल्कुल खामोश था. लड़की को उसकी खामोशी बैचेन कर रही थी. ‘तुम कुछ बोल नहीं रहे हो?’ ‘तुम वापस लौट रही हो, और प्रॉमिस करो कि जीवन में कभी भी ऐसा विचार मन में नहीं लाओगी जो तुम्हें फिर से इस मनहूस बिल्डिंग कि तरफ ले आए’ ‘मैं वचन देती हूँ तुमने मुझे जीवन का सबक सिखाया है काश कि उस लड़के को भी तुमहरे जैसा कोई देवदूत मिला होता जो उसे रोकता उसके बारे में तुम ने कुछ नहीं बताया?. ‘संभाल के इस बिल्डिंग की सीडियाँ कहीं कहीं टूटी हुई हैं… और अंधेरा भी होने को है’ लड़के ने लड़की से कहा जो बार पीछे मुड़ कर उसकी ओर देख रही थी. ‘कितनी उँची है ये बिल्डिंग वो लड़का तो ओन दी स्पॉट मार गया होगा ना ?’ ‘हाँ’ लड़के ने उत्तर दिया. ‘लेकिन क्यों किया उसने?’ ‘वो भी तुम्हारी तरह मौत और जिंदगी कि कश्मकश से जूझ रहा था लेकिन मौत जीत गई उसका वो दूसरा कदम उठ गय..किसी ने उसे नहीं रोका पीछे से आवाज़ नहीं दी…उसके भीतर का तूफान उसे मौत के अंधेरों में ले गया ‘ ‘पर क्यों जान दी उसने?’ ‘एक लड़की थी वजह’ ‘लड़की?’ ‘हाँ वो लड़की दिखने में सुंदर तो नहीं थी पर ना जाने कैसे उस लड़के के भीतर… उसकी आत्मा में प्रवेश कर गई. उसकी सादगी उसका भोला सा चेहरा उसके चेहरे की गंभीरता सब कुछ ऐसा था कि लड़का दीवाना सा हो गया. लड़के का इंजीनीरिंग का आखिरी साल थ..घर में रिटायर्ड पिता और मौ के अलावा दो छोटी बहने भी थी. वो लड़की का अक्सर पीछा करता था उसकी एक झलक पाने के लिए बैचेन रहता था. लड़की के साथ शादी के सपने संजोने लगा था. एक दिन उसने फ़ैसला किया कि वो लड़की से जाकर अपने दिल कि बात कहेगा. ‘ -कुछ देर खामोशी रही . अब वे दोनों इमारत के नीचे खड़े थे. ‘लो हम नीचे आ गये’ लड़के ने मुस्कुरा कर लड़की की और देखा. ‘आगे बताओ ना. फिर क्या हुआ ?’ ‘कहानी मजेदार है?’ ‘तुमने तो कहा था कि कोई लड़का सचमुच वहाँ से ओ माइ गोद कितनी उँची बिल्डिंग है .सच कहो ये कहानी है या सच्चाई? ‘एक सच्ची कहानी है’-लड़के ने कहा ‘आगे नहीं सुनोगी?’ ‘सच है ये तो प्लीज़ सुनाओ फिर क्या हुआ?’ ‘फिर ‘ ‘लड़के ने कहना शुरू किया ‘फिर एक दिन उसने फ़ैसला किया कि वो लड़की को सब कुछ कहेगा अपने दिल कि बात कहेगा वो कहेग..कि वो उस से शादी करना चाहता है’ ‘उसने कहा उस से?’ ‘नहीं पर जब उस ने लड़की का रास्ता रोका तो वो लड़की जैसे फट पड़ी और गुस्से से बोली, ‘में इसी दिन का इंतज़ार कर रही थी कि कब तुम मेरे सामने आओ और मैं कहूँ कि में तुम से प्यार नहीं करती हूँ समझे तुम हमेशा मेरा पीछा करते रहते हो समझते क्या हो तुम अपने आप को में तुम्हें नहीं चाहती हूँ और सुनो ..अगले हफ्ते मुझे देखने लडकेवाले देखने आ रहें हैं वो लड़का तुम्हारी तरह हॅंडसम तो नहीं है..पर ठीक ठाक है अच्छी नौकरी करता है मुझे पसंद है और तुम ..तुम चाहे किसी बिल्डिंग से कूद कर भी मर जाओ तो भी में उफ नहीं करूंगी .हटो मेरे रास्ते से .’ ‘ऐसा कहा उस लड़की ने?’ ‘हाँ लड़के कि आँखों के सामने अंधेरा छा गया और .उसके भीतर एक तूफान उठा क्रोध, ग्लानि अपमान और निराशा से भरा वो लड़का इस बिल्डिंग कि छत पर पहुँचा .अपने विवेक से उसका नियंत्रण खत्म हो गया था और फिर उसने पहला कदम उठाया और फिर दूसरा कदम और फिर मौत’ ‘उस लड़की का क्या हुआ’ ‘पता नहीं लेकिन लड़के के बारे में बता सकता हूँ कि… मौत के बाद भी उसे मुक्ति नहीं मिली .वो अब भी इस इमारत कि उंचाइयों में भटक रहा है ..’ ‘क्या मतलब ? -उसकी आत्मा ‘ ‘हाँ उसकी आत्मा अब भी भटक् रही है ‘ ‘मुझे विश्वास नहीं होत..तुम झूठ बोल रहे हो’- लड़की के चेहरे पर अविश्वास और भय था ‘कोई लड़का यहाँ से कूदा उसकी कहानी भी सच हो सकती है..पर उसकी आत्मा यहाँ इस इमारत कि छत पर तुम झूठ बोल रहे हो..’ ‘यकीन नहीं होता तो. थोड़ा आगे बढ़ो ‘ लड़के ने कहा. लड़की आगे की और गई.. लड़का वहीं खड़ा रहा ‘थोड़ा और आगे ‘ लड़की थोड़ा और आगे बढ़ी. ‘अब उपर देखो’ ‘लड़के ने जोर से आवाज़ देकर कहा. लड़की ने उपर देखा उसके जैसे होश उड़ गये वहाँ सचमुच कोई था .छत पर .उसने सफेद रंग कि कमीज़ पहनी थी .लड़की तुरंत पीछे घूमी उसकी आँखें फटी रह गई वो घुंघराले बालों वाला लड़का वहाँ नही था ..चारों तरफ सन्नाटा पसरा हुआ था ..उसने फिर उपर देखा वो वहाँ थ..उपर ….उस इमारत की छत पर…. मौत और मुक्ति के बीच कि कश्मकश में भटकता हुआ वो घुंघराले बालों वाला लड़का.

……….गोपी गोस्वामी………

 

પ્રેમ-પત્ર 10/05/2010

Filed under: પ્રેમ-પત્ર — rajdangar @ 6:16 એ એમ (am)

તારો પ્રેમ તો મને હમેંશા મળવાનો જ છે,
છતા આજે હું એક પ્રેમ-પત્ર લખું છું,
પ્રેમી તો તારો હું કાયમનો છું,
આજે આશીક બનવા ઇચ્છું છું,
રોજ જ તારી સાથે પ્રેમ કરું છું,
પણ આજે અલગ પ્રેમ વ્યક્ત કરવા માગું છું,
રાતનાં તો બહું નીંદર આવી જાય છે,
એટલે દિવસમાં સપનાં જોઉં છું,
સપના તો ખેર તારા જ હોય ને,
ભૂલથી કોઈ બીજી આવી જાય તો…
તને એની સાથે લડતાં જોઉં છું,
તું મારા માટે સૌંદર્યની મૂરત છે,
તને જોવાની હું રોજ મજા લૂટું છું,
શરીરથી તો અત્યારે તારાથી દૂર છું,
પણ મનથી તારી આસ-પાસ જ ફરું છું,
તને ખૂશ કરવાનાં અવસર હું વારંવાર ચૂકું છું,
પણ આજે આ બધું લખી સાટું વળવા માગું છું,
તુ કમળ બની ને ખિલજે આજે..,
હું ભમર બની ને આવું છું,
શબ્દોની આવી જાળ બિછાવી..
તને જ તો ફાંસવા મથું છું,
ખુશ થઈને આ કાગળ ને ના ચુમતી..
થોડીક ક્ષણ રાહ જો..
હું હમણા જ આવું છું